शर्म करो डॉक्टर

भरतपुर के कामां अस्पताल में इंसानियत को शर्मशार करने वाली घटना हुई,मामला एक मृतक के शव के पोस्टमार्टम से जुड़ा हुआ है।जहाँ अस्पताल के डॉक्टरों ने मृतक के शव का सभी के सामने खुले में बिना किसी पर्दा ओर गोपनीयता के खुले में भीड़ के सामने पोस्टमार्टम कर दिया । जुरहरा थाना अधिकारी नवल किशोर मीणा ने बताया है कि मृतक की पहचान किशोर राजपूत के रूप में हुई है। मृतक के शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है।

दरअसल जुरहेरा थाने के गांव सोनोखर के समीप स्थित एक माइनर में संदिग्ध अवस्था में एक व्यक्ति का शव पड़ा मिलने की सूचना पुलिस को मिली जिस पर पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम के लिए कामां अस्पताल लेकर आई । जहां चिकित्सा अधिकारी प्रभारी प्रमोद बंसल ने बिना मोर्चरी में रखवाए ही गाड़ी से नीचे उतरवाकर स्ट्रैचर पर ही गाडी को आडी लगवाकर  खुले आसमान के नीचे मानवता को शर्मसार करते हुए पोस्टमार्टम कर दिया ।इस दौरान गोपनीयता का कोई ध्यान नहीं रखा गया और ना ही मेडीकल ज्यूरिस्ट के नियमों का ख्याल रखा गया।खुले पोस्टमार्टम की घटना पर जब वहां मौजद स्थानीय मीडिया कर्मीयो ने कैमरे में कैद करने की कोशिश की तो अस्प्ताल प्रभारी ने मीडिया को ही धमका कर बाहर करा दिया ।बाद में इस मामले में जब जुरहेरा थाना प्रभारी से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि खुले में पोस्टमार्टम करने का जबाब तो डॉक्टर्स ही दे सकते हैं।

Read more

शरीर की कई बीमारियों को जड़ से दूर करता है लहसुन और शहद, पढ़ें इसके फायदे

 

इस मौसम में लोगों को सर्दी-खांसी, जुकाम, गले में इंफेक्शन जैसी कई बीमारी घेरने का खतरा दुगुना बन जाता है। यदि हम कुछ बातों को ध्यान देंगे तो इन बीमारियों से आसानी से बचा जा सकता है। लगभग सभी घरों के किचन में लहसुन और शहद तो जरूर रहते हैं, लहसुन और शहद दोनो ही प्राकृतिक गुणों से भरपूर हैं। जहां लहसुन में कई प्रकार के औषधिय गुण होते हैं तो वहीं शहद में शरीर को जवां और ऊर्जा देने का काम करता है। यदि दोनों को मिश्रण करके सेवन किया जाए तो आप कई बीमारियों से बच सकते हो। हम आपको बता रहे हैं कि लहसुन और शहद के मिश्रण का सेवन करने से आप किन किन रोगों से बच सकते हैं।

लहसुन और शहद को मिलाकर खाने के फायदे

1. साइनस और सर्दी जुकाम
यदि साइनस की समस्या या सर्दी जुकाम हो गया हो तो आप लहसुन और शहद को मिलाकर सेवन करें। ऐसा करने से शरीर के अंदर की गर्मी बढ़ती है जिससे ऐसे सभी रोग खत्म हो जाते हैं।

2. गले में इंफेक्शन
इंफेक्शन का गले में होना एक आम समस्या है। यह संक्रमण की वजह से होता है। शहद और लहसुन को एक साथ मिलाकर सेवन करने से गले की समस्याएं जैसे गले में सूजन, गले में खराश आदि दूर हो जाती है।

3. डायरिया
यदि आपको या फिर घर में मौजूद शिशु को दस्त अधिक लग रहे हों तो आप लहसुन और शहद की थोड़ी सी मात्रा का सेवन करें। इससे डायरिया यानि दस्त की समस्या ठीक हो जाएगी और पेट भी संक्रामक बीमारियों से बचा रहेगा।

4. दिल के रोग
लहसुन और शहद को मिलाकर सेवन करने से दिल की बीमारी का खतरा कम हो जाता है। यही नहीं लहसुन और शहद का मिश्रण रक्त संचार को ठीक रखने के अलावा दिल की धमनियों में जमी वसा को भी खत्म कर देता है।

5. ऐसे मजबूत करें इम्यून तंत्र
शरीर में बीमारियों के लगने की मुख्य वजह है हमारे शरीर के इम्यून तंत्र का गड़बड़ रहना या कमजोर रहना। इम्यून सिस्टम को यदि आप मजबूत बनाए रखना चाहते हो तो आप नियमित लहसुन और शहद से बने मिश्रण का सेवन करें।

6. फंगल इंफेक्शन
शरीर में जब फंगल इंफेक्शन हो जाता है तब सारे शरीर में संक्रमित हो जाता है और शरीर धीरे-धीरे कमजोर हो जाता है। ऐसे में शहद और लहसुन को मिलाकर खाने से फंगल इंफेक्शन खत्म हो जाता है।

7. शरीर की गंदगी
लहसुन और शहद का मिश्रण शरीर की गंदगी को डीटॉक्स कर देता है। इससे शरीर की गंदगी बाहर निकल जाती है।

इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य व सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

Read more

जयपुर में 56 वर्षीय रोगी की जटिल ओपन हार्ट सर्जरी कर बचाई जान

फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल जयपुर के डॉ.समीर शर्मा, अतिरिक्त निदेशक हृदय शल्य चिकित्सा विभाग के नेतृत्व में चिकित्सकों की एक टीम ने अत्यंत चुनौती पूर्ण जटिल सर्जरी करके 56 साल के एक व्यक्ति का जीवन बचाने में कामयाबी हासिल की है।


रोगी की छाती में तेज़ दर्द और दोनों पैरों में सुन्नता आने पर उसे फोर्टिस हॉस्पिटल की इमरजेंसी में लाया गया, जहाँ पर जाँच करने पर पाया गया कि उदर की महाधमनी में अवरोध है। जिससे रोगी के पैरों में रक्त संचार नहीं हो पा रहा है और लकवे जैसी स्थिति बनी हुई है। आगे और जांचे करने पर पता चला की मरीज़ के बाएं निलय की मुक्त दीवार भी डेमेज है इसके साथ ही सुडोएनयूरिज़्म केविटी में खून में तैरते हुए थक्के भी हैं जिसका प्राथमिकता से इलाज किया जाना ज़रूरी था अन्यथा रोगी की जान पर बन आ सकती थी।
चिकित्सक समीर शर्मा ने बताया की ये एक बेहद जोखिम भरा केस था एक तरफ तो बाये निलय की मुक्त दीवार डेमेज थी वहीँ दूसरी तरफ डोएनयूरिज़्म केविटी के फ्लोटिंग क्लॉट्स से ये चुनौती और जटिल हो गयी थी, खून के थक्के प्रवाह के साथ किसी भी दूसरे अंगो को नुकसान पहुंचा सकते थे। इसलिए हमने बड़ी सावधानी से एमब्लॉकटॉमी के द्वारा दोनों पैरों के रक्त प्रवाह को रोकने वाले थक्कों को हटाया और गहन अवलोकन करके मरीज़ की सामान्य स्तिथि होने पर ओपन हार्ट सर्जरी करके बाएं निलय की मुक्त दीवार और तैरते थक्कों का उपचार किया।
इस तरह की अत्यंत जटिल हृदयावस्था में ज्यादातर रोगी अस्पताल लाते समय या अस्पताल लाने से पहले ही दम तोड़ देते हैं। या जो अस्पताल पहुँच भी जाते हैं तो बेहद जोखिम पूर्ण सर्जरी के कारण इस तरह के ऑपरेशन की मृत्युदर 50 फ़ीसदी रहती है। हमने इस तरह की सर्जरी को सफलतापूर्वक क्रियान्वित कर दिया है रोगी अब खतरे से बाहर है।
इस बारे में फोर्टिस हॉस्पिटल के रीजनल निदेशक प्रतीम तम्बोली ने कहा कि दक्ष कौशल ,स्पेशलिटी ,तकनीकी और उच्च कोटि की आधारभूत सुविधाओं के माध्यम से हम ये खास उपचार कर पाए। हमारे काबिल स्टाफ अनुभवी डॉक्टर्स डॉ समीर शर्मा और उनकी कुशल टीम जिसमे डॉ मुकेश गर्ग ,डॉ अजय शर्मा, नर्सिंग और ओटी टीम शामिल हैं जिन्होंने ये काबिले तारीफ उपचार किया है।

Read more

MOTION DENTAL HOSPITAL का उद्घाटन समारोह

 

जयपुर. कालवाड़ रोड पर मोशन डेंटल हॉस्पिटल का उद्घाटन नारायण दास जी महाराज ने किया। उद्घाट्न समारोह में मिथीलेश गौतम केंद्रीय सदस्य- मानव संसाधन मंत्रालय, रामचरण बोहरा जयपुर सांसद, संजय जैन जयपुर ज़िलाध्यक्ष भाजपा, विक्रम सिंह शेखावत प्रदेशध्यक्ष- वन्दे मातरम संस्थान मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। हॉस्पिटल के संचालक डॉ. मंदीप सिंह शेखावत ने सभी अतिथियों का माला व साफ़ पहनकर स्वागत किया एवं मोमेंटो भेंट किया इस मोके पर डा. पवन शर्मा भी उपस्थित रहे।

Read more