नवरात्रा में डांडिया की धूम,रंगरसिया डांडिया नाइट महोत्सव

त्योहारी माहौल में हर कोई मस्ती म्यूजिक के माहौल में रम जाना चाहता है और नवरात्रों में इसकी बात की कुछ और होती है क्यूंकि मातारानी को रिझाने के साथ साथ लोग खूब डांस मस्ती करना चाहते हैं पुरे राजस्थान में डांडिया और गरबा अपने चरम पर है।

इसी की एक बानगी देखने को मिली जयपुर के एक आयोजन में दरसअल हर वर्ष की भांति इस बार भी रंगरसिया डांडिया नाइट का आयोजन जयपुर में किया गया। जिसमे प्रतिभागियों का उत्साह देखते ही बना। तेज संगीत और गरबा की धुनों के साथ साथ लोगो ने जमकर नाच किया और अपने अपने तरीके से ग्रुप बना कर प्रस्तुति दी। रंगरसिया डांडिया नाइट में स्टेज कलाकारों द्वारा नयनाभिराम नृत्य किया गया।
आयोजक ग्रुप के सदस्य विक्की सैनी ने बताया की हर साल हम लोग पुरे जयपुर के गरबा प्रेमी लोगो से संपर्क करके ऐसा आयोजन करते हैं जिसमे प्रशासन पुलिस जनप्रतिनिधि और माता के भक्त पूरा सहयोग करते हैं हर वर्ष इसमें आगंतुकों की तादाद में इजाफा होता जा रहा है।
कार्यक्रम के माहौल के मद्देनज़र आगामी निगम निकाय चुनावों में जोर आजमाइश करने जा रहे उम्मीदवार भी अपने आप को रंगरसिया डांडिया नाइट में जाने से नहीं रोक सके और जमकर ठुमके लगाए। आयोजकों ने सभी मेहमानो का स्वागत किया। कार्यक्रम के बाद महिलाओं और बच्चो ने पानी पूरी और फ़ास्ट फ़ूड का लुत्फ़ उठाया।

आयोजक सदस्ययी ग्रुप

Read more

जयपुर कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी में मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस


सीतापुरा स्तिथ जयपुर कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया। योग दिवस के उपलक्ष्य में योग गुरु रामजीलाल द्वारा छात्र छात्राओं को योग के गुर सीखाने के साथ साथ योग से होने वाले शारीरिक और मानसिक फायदों के बारे में विस्तार से बताया। छात्र छात्राओं और शिक्षकों ने उत्साह पूर्वक योग किया।

कॉलेज के चैयरमेन प्रोफ़ेसर एम एम अग्रवाल ने अपने सम्बोधन में बताया की योग के द्वारा बौद्धिक और शारीरिक क्षमताओं को मजबूत किया जा सकता हैं। योग के नियमित अभ्यास से हमारी सभी इन्द्रिय सामंजस्य के साथ काम करती हैं जिससे विचारों में सकारात्मकता का संचार होता है।
कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ मयंक बंसल ने उत्साह के साथ इस पर्व में भाग लेने पर सभी छात्र छात्रों का धन्यवाद् कर उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएँ दी।
कॉलेज रजिस्ट्रार उमेश अग्रवाल ने बताया की सभी कॉलेज और शिक्षण संस्थाओं की जिम्मेदारी है की वे अपने यहाँ पढ़ने वाले बच्चो को स्वस्थ शैक्षणिक वातावरण के साथ साथ उनके शारीरिक और मानसिक विकास का भी ध्यान रखें योग दिवस जैसे आयोजनों से इन जिम्मेदारिओं को निभाने में मदद मिलती है।

Read more

Exit Poll:-2019 लोकसभा चुनावी नतीजों का आंकलन,

लोकसभा चुनाव के सभी चरण खत्म होने के बाद सबकी नजरें एग्जिट पोल पर टिक गई हैं। विभिन्न टीवी न्यूज चैनल्स और पोल एजेंसियां एग्जिट पोल (Exit Polls 2019) के आंकड़े जारी करेंगे। एग्जिट पोल विभिन्न न्यूज चैनल्स और एजेंसियों द्वारा कराए जाते हैं। इनमें जो एग्जिट पोल प्रमुख हैं, उनके नाम इंडिया टुडे-एक्सिस एग्जिट पोल (India Today- Axis Exit Poll), एबीपी न्यूज एग्जिट पोल (ABP News Exit Poll), न्यूज 18-आईपीएसओएस एग्जिट पोल (News 18 Exit Poll), टुडेज चाणक्य एग्जिट पोल (Today’s Chanakya Exit Poll), सी-वोटर एग्जिट पोल (C Voter Exit Poll)। इसके अलावा टाइम्स नाऊ-ओआरजी एग्जिट पोल (Times Now-ORG Exit Poll), रिपब्लिक टीवी एग्जिट पोल (republic tv exit poll) आदि की घोषणा होगी।

सर्वे/एजेंसी                    भाजपा+           कांग्रेस+             सपा+बसपा        अन्य
सी वोटर-रिपब्लिक           287                128                        40                 87
जन की बात-रिपब्लिक      305               124                         26                87
वीएमआर-टाइम्स नाउ      306                132                        20              84
न्यूज नेशन                        286               122                        —              134

 टाइम्स नाऊ के अनुसार, एनडीए को 306 सीटों का अनुमान, यूपीए को मिल सकती हैं 132 सीटें

इंडिया टुडे-AXIS के अनुसार, महाराष्ट्र में NDA को 38-42 सीटों का अनुमान

इंडिया टुडे के अनुसार, छत्तीसगढ़ में बीजेपी को सात से आठ सीटों का अनुमान, कांग्रेस को तीन से चार सीटों का अनुमान।

आजतक के अनुसार, राजस्थान में 23-25 सीटों पर बीजेपी की जीत का अनुमान, कांग्रेस को मिल सकती हैं 0-2 सीटें।

रिपब्लिक और जन की बात के एग्जिट पोल के अनुसार, एनडीए को मिल सकती हैं 287 सीटें, यूपीए को 128 सीटों का अनुमान।

आज तक के अनुसार, MP में BJP को मिल सकती हैं 26-28 सीटें, कांग्रेस को एक से 3 सीटों का अनुमान

लोकसभा चुनाव के सातवें चरण की 59 सीटों पर मतदान शाम छह बजते ही समाप्त हो गया है। हालांकि, जो लाइन में खड़े हैं, वे वोट डाल सकेंगे। वहीं, एग्जिट पोल के आंकड़े शाम साढ़े छह बजे से जारी होंगे।

लोकसभा चुनाव के सातवें चरण की बात करें तो झारखंड के तीन लोकसभा सीटों पर अपराह्न तीन बजे तक लगभग 64.81 प्रतिशत मतदान हो चुका है जिसमें राजमहल सीट पर 64.68 प्रतिशत, दुमका में 66.79 तथा गोड्डा में 63.30 प्रतिशत मतदान रिकार्ड किया गया है।

लोकसभा चुनाव के सातवें चरण का मतदान शाम को समाप्त होगा। इसके बाद एग्जिट पोल के नतीजे देखे जा सकेंगे।

लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण में पंजाब की सभी 13 सीटों, उत्तर प्रदेश की 13, पश्चिम बंगाल की नौ, बिहार और मध्य प्रदेश की आठ-आठ, हिमाचल प्रदेश की चार, झारखंड की तीन तथा चंडीगढ़ की एक सीट पर वोट डाले जा रहे हैं। इस चरण में 10.1 करोड़ से ज्यादा मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर रहे हैं। चुनाव आयोग ने 1.12 लाख से ज्यादा मतदान केंद्र बनाए हैं और मतदान सुचारू रूप के कराने के लिए सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है।

शेयर बाजारों की दिशा इस सप्ताह एग्जिट पोल और 23 मई को आम चुनावों के नतीजों से तय होगी। इसके अलावा कुछ महत्वपूर्ण कंपनियों के वित्तीय नतीजों का भी बाजार पर असर पड़ सकता है। विश्लेषकों का कहना है कि चुनाव संबंधी घटनाक्रमों से बाजार में उतार-चढ़ाव रह सकता है। भाषा के अनुसार, एग्जिट पोल के परिणाम 19 मई को आखिरी चरण का मतदान संपन्न होने के साथ आने लगेगा। विशेषज्ञों का मानना है कि अंतिम चुनाव नतीजों तक शेयर बाजार का रुख असमंजस वाला रह सकता है। 

Read more

जानिए राजस्थान विधान सभा की सीटों का विवरण

 

1 Sadulshahar 68 Rajgarh Laxmangarh (ST) 135 Barmer
2 Ganganagar 69 Kathumar (SC) 136 Baytoo
3 Karanpur 70 Kaman 137 Pachpadra
4 Suratgarh 71 Nagar 138 Siwana
5 Raisinghnagar (SC) 72 Deeg Kumher 139 Gudamalani
6 Anupgarh (SC) 73 Bharatpur 140 Chohtan (SC)
7 Sangaria 74 Nadbai 141 Ahore
8 Hanumangarh 75 Weir (SC) 142 Jalore (SC)
9 Pilibanga (SC) 76 Bayana (SC) 143 Bhinmal
10 Nohar 77 Baseri (SC) 144 Sanchore
11 Bhadra 78 Bari 145 Raniwara
12 Khajuwala (SC) 79 Dholpur 146 Sirohi
13 Bikaner West 80 Rajakhera 147 Pindwara Abu (ST)
14 Bikaner East 81 Todabhim (ST) 148 Reodar (SC)
15 Kolayat 82 Hindaun (SC) 149 Gogunda (ST)
16 Lunkaransar 83 Karauli 150 Jhadol (ST)
17 Dungargarh 84 Sapotra (ST) 151 Kherwara (ST)
18 Nokha 85 Bandikui 152 Udaipur Rural (ST)
19 Sadulpur 86 Mahwa 153 Udaipur
20 Taranagar 87 Sikrai (SC) 154 Mavli
21 Sardarshahar 88 Dausa 155 Vallabnagar
22 Churu 89 Lalsot (ST) 156 Salumber (ST)
23 Ratangarh 90 Gangapur 157 Dhariawad (ST)
24 Sujangarh (SC) 91 Bamanwas (ST) 158 Dungarpur (ST)
25 Pilani (SC) 92 Sawai Madhopur 159 Aspur (ST)
26 Surajgarh 93 Khandar (SC) 160 Sagwara (ST)
27 Jhunjhunu 94 Malpura 161 Chorasi (ST)
28 Mandawa 95 Niwai (SC) 162 Ghatol (ST)
29 Nawalgarh 96 Tonk 163 Garhi (ST)
30 Udaipurwati 97 Deoli-Uniara 164 Banswara (ST)
31 Khetri 98 Kishangarh 165 Bagidora (ST)
32 Fatehpur 99 Pushkar 166 Kushalgarh (ST)
33 Lachmangarh 100 Ajmer North 167 Kapasan (SC)
34 Dhod (SC) 101 Ajmer South (SC) 168 Begun
35 Sikar 102 Nasirabad 169 Chittorgarh
36 Dantaramgarh 103 Beawar 170 Nimbahera
37 Khandela 104 Masuda 171 Bari-Sadri
38 Neem Ka Thana 105 Kekri 172 Pratapgarh (ST)
39 Srimadhopur 106 Ladnun 173 Bhim
40 Kotputli 107 Deedwana 174 Kumbhalgarh
41 Viratnagar 108 Jayal (SC) 175 Rajsamand
42 Shahpura 109 Nagaur 176 Nathdwara
43 Chomu 110 Khinvsar 177 Asind
44 Phulera 111 Merta (SC) 178 Mandal
45 Dudu (SC) 112 Degana 179 Sahara
46 Jhotwara 113 Makrana 180 Bhilwara
47 Amber 114 Parbatsar 181 Shahpura (SC)
48 Jamwa Ramgarh (ST) 115 Nawan 182 Jahazpur
49 Hawamahal 116 Jaitaran 183 Mandalgarh
50 Vidhyadhar Nagar 117 Sojat (SC) 184 Hindoli
51 Civil-Lines 118 Pali 185 Keshoraipatan (SC)
52 Kishanpole 119 Marwar Junciton 186 Bundi
53 Adarsh Nagar 120 Bali 187 Pipalda
54 Malviya-Nagar 121 Sumerpur 188 Sangod
55 Sanganer 122 Phalodi 189 Kota North
56 Bagru (SC) 123 Lohawat 190 Kota South
57 Bassi (ST) 124 Shergarh 191 Ladpura
58 Chaksu (SC) 125 Osian 192 Ramganj Mandi (SC)
59 Tijara 126 Bhopalgarh (SC) 193 Anta
60 Kishangarh Bas 127 Sardarpura 194 Kishanganj (ST)
61 Mundawar 128 Jodhpur 195 Baran Atru (SC)
62 Behror 129 Soorsagar 196 Chhabra
63 Bansur 130 Luni 197 Dag (SC)
64 Thanagazi 131 Bilara (SC) 198 Jhalrapatan
65 Alwar Rural (SC) 132 Jaisalmer 199 Khanpur
66 Alwar Urban 133 Pokaran 200 Manohar Thana
67 Ramgarh 134 Sheo

राजस्थान विधानसभा 2013 के नतीजे

Candidate Name Party Constituency Name
Ashok Parnami BJP Adarsh Nagar
Shankar Singh Rajpurohit BJP Ahore
Vasudev Devnani BJP Ajmer North
Anita Bhadel BJP Ajmer South
Jairam BJP Alwar Rural
Banwari Lal Singhal BJP Alwar Urban
Naveen Pilania NPP Amber
Prabhu Lal Saini BJP Anta
Shimla Bawri BJP Anupgarh
Ram Lal Gurjar BJP Asind
Gopi Chand Meena BJP Aspur
Mahendra Jeet Singh Malviya Congress Bagidora
Kailash Chand BJP Bagru
Pushpendra Singh BJP Bali
Kunji Lal BJP Bamanwas
Mrs Alka Singh BJP Bandikui
Shakuntala Rawat Congress Bansur
Dhansingh BJP Banswara
Ram Pal BJP Baran-Atru
Girraj Singh Congress Bari
Gautam Kumar BJP Bari Sadri
Mewaram Jain Congress Barmer
Rani Silotia BJP Baseri
Anju Devi Dhanka IND Bassi
Bachchu Singh BJP Bayana
Kailash Choudhary BJP Baytoo
Shankar Singh BJP Beawar
Suresh BJP Begun
Jaswant Singh BJP Behror
Sanjeev Kumar BJP Bhadra
Vijay Kumar BJP Bharatpur
Vitthal Shankar Avasthi BJP Bhilwara
Hari Singh Rawat BJP Bhim
Poora Ram BJP Bhinmal
Kamasa BJP Bhopalgarh
Siddhi Kumari BJP Bikaner East
Gopal Krishan BJP Bikaner West
Arjunlal BJP Bilara
Ashok Dogra BJP Bundi
Laxminarain BJP Chaksu
Pratap Singh BJP Chhabra
Chandra Bhan BJP Chittorgarh
Tarun Rai Kaga BJP Chohtan
Ramlal Sharma BJP Chomu
Sushil BJP Chorasi
Rajendra Rathore BJP Churu
Arun Chaturvedi BJP Civil Lines
Ram Chandra BJP Dag
Narayan Singh Congress Danta Ramgarh
Shankar Lal Sharma BJP Dausa
Yunus Khan BJP Deedwana
Vishvendra Singh Congress Deeg-Kumher
Ajay Singh BJP Degana
Rajendra BJP Deoli-Uniara
Gotam Lal BJP Dhariawad
Gordhan BJP Dhod
Banwari Lal Kushwah BSP Dholpur
Premchand BJP Dudu
Kishana Ram BJP Dungargarh
Devendra Katara BJP Dungarpur
Nand Kishor IND Fatehpur
Kamini Jindal NUZP Ganganagar
Man Singh BJP Gangapur
Jeetmal Khant BJP Garhi
Navneet Lal BJP Ghatol
Pratap Lal Bheel BJP Gogunda
Ladu Ram BJP Gudha Malani
Rampratap BJP Hanumangarh
Surendra Pareek BJP Hawa Mahal
Rajkumari BJP Hindaun
Ashok Congress Hindoli
Dhiraj Gurjar Congress Jahazpur
Chhotu Singh BJP Jaisalmer
Surendra Goyal BJP Jaitaran
Amrita Solanki BJP Jalore
Jagdish Narayan Meena BJP Jamwa Ramgarh
Dr Manju Baghmaar BJP Jayal
Heeralal Congress Jhadol
Vasundhara Raje BJP Jhalrapatan
Rajpal Singh Sekhawat BJP Jhotwara
Brijendra Singh Ola Congress Jhunjhunu
Kailash Bhanshali BJP Jodhpur
Jagat Singh BJP Kaman
Arjun Lal BJP Kapasan
Surender Pal Singh BJP Karanpur
Darshan Singh Congress Karauli
Mangal Ram BJP Kathumar
Shatrughan Gautam BJP Kekri
Baboo Lal Verma BJP Keshoraipatan
Vishwanath BJP Khajuwala
Jitendra Kumar Gothwal BJP Khandar
Banshidhar BJP Khandela
Narendra Nagar BJP Khanpur
Nana Lal Ahari BJP Kherwara
Pooranmal Saini BSP Khetri
Hanuman Beniwal IND Khinwsar
Mohan Lal BJP Kishan Pole
Lalit Kumar BJP Kishanganj
Bhagirath Choudhary BJP Kishangarh
Ramhet Singh BJP Kishangarh Bas
Bhanwar Singh Congress Kolayat
Prahlad Gunjal BJP Kota North
Om Birla BJP Kota South
Rajendra Singh Yadav Congress Kotputli
Surendra Singh Rathore BJP Kumbhalgarh
Bhima BJP Kushalgarh
Govind Singh Congress Lachhmangarh
Manohar Singh BJP Ladnun
Bhawani Singh Rajawat BJP Ladpura
Kirori Lal Meena NPP Lalsot
Gajendra Singh BJP Lohawat
Jogaram Patel BJP Luni
Manik Chand IND Lunkaransar
Omprakash BJP Mahuwa
Shreeram Bhincher BJP Makrana
Kanhiya Lal BJP Malpura
Kalicharan BJP Malviya Nagar
Kalu Lal BJP Mandal
Kirtikumari BJP Mandalgarh
Narendra Kumar IND Mandawa
Kanwar Lal BJP Manohar Thana
Kesaram Choudhary BJP Marwar Junction
Sushil Kanwar Palara BJP Masuda
Dali Chand Dangi BJP Mavli
Sukharam BJP Merta
Dharam Pal Choudhary BJP Mundawar
Krishnendra Kaur BJP Nadbai
Anita BJP Nagar
Habibur Rahman Ashrafi Lamba BJP Nagaur
Sanwar Lal BJP Nasirabad
Kalyansingh Chouhan BJP Nathdwara
Dr Rajkumar Sharma IND Nawalgarh
Vijay Singh BJP Nawan
Prem Singh BJP Neema Ka Thana
Shrichand Kriplani BJP Nimbahera
Heera Lal Raiger BJP Niwai
Abhishek BJP Nohar
Rameshwar Lal Dudi Congress Nokha
Bhera Ram Choudhary BJP Osian
Amra Ram BJP Pachpadra
Gyanchand Parakh BJP Pali
Man Singh BJP Parbatsar
Pabba Ram Bishnoi BJP Phalodi
Nirmal Kumawat BJP Phulera
Sunderlal BJP Pilani
Dropati BJP Pilibanga
Samaram BJP Pindwara Abu
Vidya Shankar Nandwana BJP Pipalda
Shaitan Singh BJP Pokaran
Nandlal BJP Pratapgarh
Suresh Singh Rawat BJP Pushkar
Sona Devi NUZP Raisinghnagar
Pradhyumn Singh Congress Rajakhera
Golma NPP Rajgarh-Laxmangarh
Kiran Maheshwari BJP Rajsamand
Chandra Kanta Meghwal BJP Ramganj Mandi
Gyandev Ahuja BJP Ramgarh
Narayan Singh Dewal BJP Raniwara
Rajkumar Rinwa BJP Ratangarh
Jagasi Ram BJP Reodar
Manoj Kumar BSP Sadulpur
Gurjant Singh BJP Sadulshahar
Anita Katara BJP Sagwara
Dr Balu Ram Chaudhary BJP Sahara
Amrit Lal BJP Salumber
Sukhram Congress Sanchore
Ghanshyam Tiwari BJP Sanganer
Krishan Kadva BJP Sangaria
Heeralal Nagar BJP Sangod
Ramesh Congress Sapotra
Ashok Gehlot Congress Sardarpura
Bhanwar Lal Congress Sardarshahar
Diya Kumari BJP Sawai Madhopur
Rao Rajendra Singh BJP Shahpura
Kailash Chandra Meghwal BJP Shahpura
Manvendra Singh BJP Sheo
Babu Singh BJP Shergarh
Ratan Lal Jaldhari BJP Sikar
Geeta Verma NPP Sikrai
Otaram BJP Sirohi
Hameersingh Bhayal BJP Siwana
Sanjana Agari BJP Sojat
Suryakanta Vyas BJP Soorsagar
Jhabar Singh Kharra BJP Srimadhopur
Khemaram BJP Sujangarh
Madan Rathore BJP Sumerpur
Santosh Ahlawat BJP Surajgarh
Rajender Singh Bhadu BJP Suratgarh
Jainarayan BJP Taranagar
Hem Singh Bhadana BJP Thanagazi
Maman Singh BJP Tijara
Ghanshyam Congress Todabhim
Ajit Singh BJP Tonk
Gulab Chand Kataria BJP Udaipur
Phool Singh Meena BJP Udaipur Rural
Shubhkaran BJP Udaipurwati
M Randhir Singh IND Vallabhnagar
Narpat Singh Rajvi BJP Vidhyadhar Nagar
Dr Phoolchand Bhinda BJP Viratnagar
Bahadur Singh BJP Weir

 

Read more

युवा तय करेंगे राजस्थान विधान सभा चुनाव की दिशा

कमल अग्रवाल:-

राजस्थान की 200 सीटों के लिए 7 दिसंबर को चुनाव हो रहा है। राजनीतिक पार्टियां चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं और अलग-अलग वर्गों को रिझाने का प्रयास कर रही हैं। इनमें युवा वर्ग एक ऐसा तबका है जो इस विधानसभा चुनाव में निर्णायक भूमिका निभाने वाला है। राजस्थान में 2.54 करोड़ मतदाता 18-40 के बीच की आयुवर्ग हैं।

राजस्थान के कुल 4 करोड़ 72 लाख 20 हजार 597 मतदाताओं में 53 प्रतिशत मतदाता 18 से 40 साल के बीच हैं। युवा मतदाताओं की बड़ी संख्या के बाद भी राजनीतिक दल इन्हें तवज्जो देते नहीं दिखते। 2008 में मंत्रिमंडल की औसत उम्र 59 साल थी जो 2013 में बढ़कर 60 साल हो गई। साल 2008 में युवा विधायकों की संख्या 36 थी जो 2013 में घटकर 35 हो गई। विधानसभा में युवा विधायकों की हिस्सेदारी मात्र 18 फीसदी है।

प्रमुख दलों के शीर्ष पर भी नहीं युवा नेता
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन लाल सैनी की उम्र 75 साल है। प्रदेश कार्यकारिणी के ज्यादातर नेताओं की उम्र भी 50 के पार है। कांग्रेस ने चुनाव की कमान 40 वर्षीय सचिन पायलट को दे दी है लेकिन कांग्रेस प्रदेश कार्यकारिणी में उम्रदराज नेताओं की भरमार है।

जयपुर जिले में सबसे ज्यादा युवा मतदाता
जयपुर 19 विधानसभा सीटों में 24 लाख से ज्यादा मतदाता है। प्रतापगढ़ जिले में सबसे कम 2.65 हजार युवा मतदाता हैं। विधानसभा सीटों के लिहाज से झोटवाड़ा पहले नंबर पर है। जहाँ युवा मतदातों की गिनती 1.94 हजार है।

क्या कहते हैं आंकड़े

राजस्थान की स्थिति एक नजर में

कुल मतदाता                                       47220597

18 से 40 आयुवर्ग के युवा मतदाता       25481736

युवा मतदाताओं का औसत                   53.96%

कुल बूथ                                               51796

नए मतदाता                                         4083970

सर्वाधिक युवा मतदाताओं वाले जिले

कुल मतदाता       युवा मतदाता

जयपुर   4556662           2480394

अलवर   2444927          1335890

नागौर   2364849           1262913

जोधपुर  2442544           1310038

सीकर    1979209            1067154

सबसे कम युवा मतदाताओं वाले जिले

कुल मतदाता    युवा मतदाता

प्रतापगढ़       265996            265996

बूंदी               636093            340428

जैसलमेर       418912            247260

सिरोही           715797           383741

राजसमंद       850323           438122

सबसे अधिक युवा मतदाताओं वाले विधानसभा क्षेत्रविधानसभा

कुल मतदाता    युवा मतदाता

झोटवाड़ा         356039           194619

बगरु               293929          169320

विद्याधर नगर  318501       169261

सांगानेर          301559         165198

बूंदी                286318          157335

सबसे कम युवा मतदाताओं वाले विधानसभा क्षेत्र

विधानसभा    कुल मतदाता युवा मतदाता

केशोराय पाटन    102999    53874

जोधपुर               197565    92845

किशनपोल         196306    100408

खेतड़ी                 202777    101785

अजमेर दक्षिण    200907    102300

Read more

सर्वे: मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ भाजपा आगे, राजस्थान में कांग्रेस को बढ़त

सर्वे में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में भाजपा आगे, राजस्थान में कांग्रेस को बढ़त

बड़े राज्य मध्यप्रदेश छत्तीसगढ़ और राजस्थान के वाशिंदे अगले कुछ दिनों में नई सरकार का चुनाव करेंगे। एबीपी न्यूज के सीएसडीएस के सर्वे के अनुसार मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में भाजपा की सरकार फिर आ सकती है, परन्तु राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बनने का आसार है। इन चुनावों का प्रभाव निश्चित ही अगले लोकसभा चुनाव पर भी पड़ेगा। और नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी की लोकप्रियता का भी पता चलेगा।

मध्य प्रदेश : पहली पसंद शिवराज सिंह
मध्य प्रदेश में विधानसभा की कुल 230 सीटों पर 28 नवंबर को मतदान होगा और परिणाम 11 दिसंबर को आएंगे। सर्वे के अनुसार मध्य प्रदेश में भाजपा बहुमत का आंकड़ा छू सकती है। मुख्यमंत्री के रूप में शिवराज सिंह चौहान नंबर वन पर बरकरार हैं। 37 प्रतिशत जनता शिवराज को और 24 प्रतिशत जनता ज्योतिरादित्य सिंधिया को मुख्यमंत्री के रूप में अपनी पसंद बता रहे हैं। मात्र 10 प्रतिशत ने कमलनाथ को अपनी पसंद बताया।

छत्तीसगढ़ : रमन सिंह में आगे
सर्वे के अनुसार अजीत जोगी का गठबंधन कांग्रेस के लिए बड़ी मुसीबत साबित हो सकती है। उन्हें 15 फीसदी वोट मिल सकते हैं। इस वजह से भाजपा फिर बहुमत का आंकड़ा पार कर सकती है। अजीत जोगी के गठबंधन को 4 सीटें मिल सकती हैं। मुख्यमंत्री रमन सिंह 40 प्रतिशत लोगों की पहली पसंद बने हुए हैं। 20 प्रतिशत लोगों ने अजीत जोगी अपनी पसंद बताया। 14 प्रतिशत लोगों ने भूपेश बघेल को मुख्यमंत्री के रूप में अपनी पसंद बताया।

राजस्थान : कांग्रेस बहुमत के नज़दीक
सर्वे के अनुसार कांग्रेस के लिए राजस्थान से खुशखबरी है। सीटों के लिहाज से कांग्रेस बहुमत का आंकड़ा पार कर सकती है। वोट प्रतिशत में भाजपा और कांग्रेस के बीच 4 फीसदी का अंतर है। लोकप्रियता की कसौटी पर मुख्यमंत्री के रूप में वसुंधरा राजे अब भी 32 प्रतिशत के साथ नंबर वन बनी हुई हैं। अशोक गहलोत 26 प्रतिशत, सचिन पायलट 14 प्रतिशत लोगों की पसंद हैं।

तीनों राज्यों का इंफो मैटर

मध्य प्रदेश
किसे कितने प्रतिशत वोट?
कुल- 230 सीट
भाजपा- 41%
कांग्रेस- 40%
अन्य- 19%

कितनी औसत सीटें?
कुल- 230 सीट
भाजपा- 116 सीट
कांग्रेस- 105 सीट
अन्य- 9 सीट

मौजूदा सीटें
भाजपा – 166 (1 अन्य) सत्तापक्ष
कांग्रेस – 57 (6 अन्य) विपक्ष

छत्तीसगढ़
किसे कितने वोट ?
कुल- 90 सीटें
भाजपा- 43%
कांग्रेस- 36%
जोगी गठबंधन – 15%

कितनी औसत सीट
कुल- 90 सीट
भाजपा- 56 सीट
कांग्रेस- 25 सीट
जोगी गठबंधन – 4 सीट

मौजूदा सीटें
भाजपा – 49 सत्तापक्ष
कांग्रेस – 39 (2 अन्य) विपक्ष

राजस्थान
कुल- 200 सीटें
भाजपा- 41%
कांग्रेस- 45%
अन्य – 14%

किसे कितनी औसत सीट
भाजपा- 84 सीटें
कांग्रेस- 110 सीटें
अन्य – 6 सीटें

मौजूदा सीटें
भाजपा – 160 (1 अन्य) सत्तापक्ष
कांग्रेस – 25 (11 अन्य) विपक्ष

प्रधानमंत्री मोदी का काम कैसा?
बहुत अच्छा मानने वाले
मध्य प्रदेश – 25%
छत्तीसगढ़ – 18%
राजस्थान – 34%

मोदी की लोकप्रियता ?
मध्य प्रदेश – 39%
छत्तीसगढ़ – 48 %
राजस्थान- 52%

राहुल की लोकप्रियता ?
मध्य प्रदेश – 33%
छत्तीसगढ़ – 28 %
राजस्थान – 18%

इंडिया टुडे पीएसई सर्वे
मध्य प्रदेश
42 फीसदी मतदाता मौजूदा भाजपा सरकार के पक्ष में
40 फीसदी ने माना कि सरकार बदलनी चाहिए

राजस्थान
43 फीसदी मतदाताओं ने कहा कि सरकार बदलनी चाहिए
39 फीसदी ने वसुंधरा की भाजपा सरकार पर भरोसा जताया

छत्तीसगढ़
43 फीसदी मतदाता रमन सिंह के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार चाहते हैं
41 फीसदी ने कहा कि सरकार बदली जानी चाहिए

तेलंगाना
43 फीसदी मतदाताओं ने के. चंद्रशेखर राव को पुनः मुख्यमंत्री चुनने की बात कही
25 फीसदी ने कांग्रेस के एन. उत्तम रेड्डी को मुख्यमंत्री बनाने की बात कही

Read more

एस.डी.पी.आई. का प्रेसीडेन्ट मीट प्रोग्राम सम्पन्न

भीलवाडा। सोशल डेमाक्रेटिक पार्टी ऑफ इण्डिया (SDPI) राजस्थान की प्रदेश इकाई द्वारा  आयोजित कार्यकम में राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा पदाधिकारियों से सीधे तौर पर संवाद किया गया। मीट द प्रेसीडेन्ट नाम से आयोजित उपरोक्त प्रोग्राम में प्रदेशभर से जिला कमेटियो, विधानसभा, नगर कमेटियों व प्रदेश कार्यकारिणी के पदाधिकारियो ने इस कार्यक्रम में प्रतिनिधि के रूप में भाग लिया।
कार्यक्रम मे मुख्य अतिथि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एम.के. फैजी तथा विशिष्ट अतिथियों में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष आर.पी. पाण्ड््या, राष्ट्रीय महासचिव अब्दुल मजीद, राष्ट्रीय महासचिव मोहम्मद शफी, राष्ट्रीय सचिव सीताराम खोईवाल, राष्ट्रीय सचिव यास्मीन फारूकी, राष्ट्रीय सचिव डॉ तस्लीम रहमानी एवं वीमेन इण्डिया मूवमेन्ट की राष्ट्रीय अध्यक्ष मेहरून्निसा खान ने शिरकत की। कार्यक्रम की अध्यक्षता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद रिजवान खान ने की।
कार्यक्रम में उपस्थित समस्त पदाधिकारियों से संवाद स्थापित करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष ने पार्टी के कार्यकमो एवं नीतियों को निचले स्तर तक पंहुचाने का संदेश दिया तथा आमजन के हितों के लिए संघर्ष करते हुए सभी से तत्पर रहने को कहा । इससे पूर्व कार्यक्रम की शुरूआत करते हुए प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद रिजवान खान ने बताया कि पार्टी ने पूरे प्रदेश में आमजन व किसानो की समस्याओं के निराकरण हेतु निरन्तर संघर्ष करते हुए अपनी निर्णायक भूमिका अदा की है जिससे आगामी चुनाव में भाग लेकर एसडीपीआई अपनी उपस्थिति दर्ज कराऐगी।
राष्ट्रीय उपाध्यक्ष आर.पी. पाण्डया ने देश में कमजोर होते लोकतंत्र पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि वर्तमान केन्द्र की सरकार संविधान की गरिमा को क्षति पंहुचाकर तानाशाही एवं भ्रष्टाचार को बढावा दे रही है जिससे अर्थव्यवस्था को बहुत नुकसान पंहुचा है।
राष्ट्रीय महासचिव अब्दुल मजीद ने कहा कि प्रधानमंत्री एवं उनके मंत्रिमंडल ने पहले तो कॉरपोरेट घरानों को लाभ पंहुचाया फिर उनको देश से बाहर भगाने की साजिश की जिससे की देश की जनता पर महंगाई व करो का भार बढ़ा है।
राष्ट्रीय सचिव यासमीन फारूकी ने अपने संबोधन मे कहा कि देश एवं प्रदेश में महिलाओं पर बलात्कार, हत्याएं तथा अन्य अत्याचार की घटनाएं अभी तक पिछली सरकारो के समय से ज्यादा अब तेजी से बढी है और इन घटनाओ में भाजपा नेताओं एवं समर्थकों की लिप्तता अधिक पाई गई है जिन पर सरकारें अंकुश नहीं लगा सकी।
कार्यक्रम में सभी प्रतिनिधियों एवं राष्ट्रीय नेतृत्व का स्वागत प्रदेश महासचिव अशफाक हुसैन ने किया तथा धन्यवाद भाषण राष्ट्रीय सचिव सीताराम खोईवाल ने किया।
इस अवसर पर आयोजित प्रेस वार्ता में भी राष्ट्रीय अध्यक्ष एम.के. फैजी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष आर.पी. पाण्ड्या, राष्ट्रीय महासचिव अब्दुल मजीद, राष्ट्रीय महासचिव मोहम्मद शफी, राष्ट्रीय सचिव सीताराम खोईवाल ने संबोधित किया।
Read more

हर मोर्चे पर विफल प्रदेश सरकार – गहलोत

 

कांग्रेस संगठन महासचिव और राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सूबे की सरकार को बेरोजगारी,महंगाई,भ्रष्टाचार के मुद्दे पर घेरते हुए कई आरोप लगाए। पत्रकार वार्ता में बोलते हुए गहलोत ने राजे सरकार को हर मोर्चे पर फेल बताया,कहा कि  मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे गौरव यात्रा के दौरान बार-बार कह रही है कि कांग्रेस ने जो 50 साल में नहीं किया वो हमने 5 साल में कर दिखाया। जनता जानना चाहती है कि आपकी क्या-क्या उपलब्धियां हैं? आपने राजस्थान को हर क्षेत्र में कमजोर और बदनाम करने का ही काम किया है।  वसुन्धरा जी जिस प्रकार असत्य की राजनीति कर रही है, वह निन्दनीय है। गत 28 वर्षों में से 18 वर्ष तक प्रदेश में भाजपा का शासन रहा है।  अपने शासन के दस वर्षों के कार्यकाल के पांच-पांच ऐसे काम बतायें जो जनता की स्मृति में हो। कांग्रेस के दस साल के कार्यकाल में प्रदेश के समग्र विकास, अकाल प्रबन्धन, जन-कल्याणकारी योजनाएं, आधारभूत ढांचे का विकास आदि कार्य जग जाहिर हैं एवं राजस्थान के वर्तमान स्वरूप की जयपुर सहित पूरे देश में पहचान है।

कांग्रेस सरकार के समय भाजपा शासन में घोषित किसी भी योजना और कार्यक्रम का ना तो नाम बदला गया और ना ही नाम काटे गये जबकि राजे सरकार के दौरान पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार की कई विकास योजनाओं और कार्यक्रमों के नाम बदल दिये गये है। आंगनबाड़ी कर्मियों के लिए स्थापित 100 करोड़ रूपये के आगंनबाड़ी कल्याणकोष, 200 करोड़ रूपये के अल्पसंख्यक कल्याण कोष, 100 करोड़ के ईबीसी कोष को रोक दिया गया। देवनारायण योजना के लिए भी 300 करोड का पैकेज घोषित किया था।
रिफाईनरी, मेट्रो सैकण्ड फेज, डूंगरपुर-बांसवाड़ा-रतलाम रेल परियोजना, परबन सिंचाई एवं पेयजल परियोजना, मेमू कोच फैक्ट्री, धौलपुर से सरमथुरा नैरोगेज का कन्वर्जन एवं सरमथुरा से गंगापुर तक नई ब्रॉडगेज लाईन, अजमेर-नसीराबाद-सवाईमाधोपुर रेल लाईन जैसी महत्वपूर्ण परियोजनाओं को क्यों लटकाये रखा। ऐसा करके राजस्थान के विकास को अवरूद्ध करने का अपराध वर्तमान भाजपा सरकार ने पिछले पांच सालों में किया है।
भामाशाह कार्ड बनाने में भी भयंकर भ्रष्टाचार हुआ। भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना को लाकर इस सरकार ने भ्रष्टाचार को पनपाने के साथ-साथ निःशुल्क दवा योजना को कमजोर करने का ही काम किया है। इस संबंध में घोर लापरवाही बरती गयी। अब सीएजी की रिपोर्ट में भी इन योजनाओं के बारे में गंभीर टिप्पणी की गयी है।  बीमा कम्पनी और निजी अस्पतालों के बीच हुये गठजोड़ को लेकर बार-बार सवाल उठाये जा रहे है। हजारों रूपये के फर्जी बिल बनाकर भुगतान उठाया जाता रहा। चिकित्सा विभाग ने भी बीमा कम्पनी के 106 करोड़ रू. की प्रीमियम राशि को रोक दिया है। बीमा कम्पनी एवं निजी चिकित्सालयों के बीच पैदा हुए विवाद का अविलम्ब हल निकालना चाहिए।
कांग्रेस ने बढ़ती महंगाई एवं पेट्रोल-डीजल की बढ़ी दरों के विरोध में भारत बंद का सफल आयोजन किया, राजस्थान सहित देश भरत में भारत बंद को भरपूर जन समर्थन मिला। इसके बावजूद भी सरकार की आंखे नहीं खुली। कांग्रेस के दबाव को देखते हुए मुख्यमंत्री ने प्रदेश में पेट्रोल-डीजल का 4 प्रतिशत वेट कम करना पड़ा, जो नाकाफी है। पेट्रोल-डीजल को जी.एस.टी. के दायरे में लाना चाहिये और रोज जो दरें बढ़ रही हैं, उसको बंद किया जाना चाहिए।
रसोई पर महंगाई के बढते दबाव के बावजूद गैस सिलेण्डर में कोई कमी नहीं की गयी। पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने प्रति सिलैण्डर 25 रूपये की कमी की थी। गैस सिलेण्डर की बढ़ती कीमतों को देखते हुए सरकार को कम से कम 100 रूपये प्रति सिलेण्डर की राहत प्रदान करनी चाहिये।
चुनाव के दौरान वसुंधरा राजे ने 15 लाख युवाओं को सरकारी नौकरी देने का वायदा किया था। राष्ट्रीय स्तर पर बेरोजगारी की दर 6 प्रतिशत है, जबकि राजस्थान में यह 10 प्रतिशत तक पहुंच गई है जो चिंताजनक है।
मुख्यमंत्री युवाओं को 16 लाख नौकरियां उपलब्ध कराने का लगातार दावा कर रही है जबकि सी.ए.जी. की हॉल ही में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार आरएसएलडीसी से 1,27,817 प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं में से 42,758 युवाओं को ही रोजगार दिया गया है, जिसके सत्यापन पर मात्र 9,904 वास्तविक पाये गये।
भाजपा सरकार ने प्रदेश में पहली बार लाभार्थी और वंचित के नाम से दो अलग-अलग वर्ग बना दिये हैं। पहले प्रधानमंत्री का लाभार्थी संवाद, मुख्यमंत्री का एससी/एसटी, सफाई कर्मचारी तथा नवनियुक्त शिक्षकों तथा अब पुलिसकर्मियों को बुलाकर राजनीतिक हित साधने के लिये लाभार्थी संवाद आयोजित कर रही है, ऐसा करके मुख्यमंत्री राजस्थान को कहां ले जायेगी। इसका जनता आगामी चुनावों में सबक सिखायेगी।
राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के लाभान्वित परिवारों के लिये भामाशाह डिजिटल परिवार योजना लागू कर सरकारी खजाने से मोबाईल हेतु एक-एक हजार रूपये की राशि उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई है। इस योजना पर खर्च होने वाले 1000 करोड़ रूपये का लाभ कम्पनी विशेष को ही मिलेगा। सरकारी मशीनरी एवं जनता के पैसे का ऐसा दुरूपयोग पहली बार हो रहा है।
गौरव यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री इसी तरह कई ऐसी लोक-लुभावन घोषणायें कर राजनीतिक हित साधने का असफल प्रयास कर रही है। जिनके लिये ना तो कोई बजट प्रावधान है और ना ही इन घोषणाओं को पूरा करना अब उनके बस में है। मुख्यमंत्री ने चुनाव के समय पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार पर कल्याणकारी योजनाओं बजट प्रावधानाओं के साथ लागू करने पर रेवड़िया बांटने का आरोप लगाया था, लेकिन अब वे खुद बिना बजट के क्या कर रही हैं?
माननीय राजस्थान उच्च न्यायालय ने भी गौरव यात्रा के दौरान सरकारी कार्यक्रमों के आयोजन के नाम पर सरकारी पैसे के खर्च पर रोक लगा दी है। बावजूद इसके भाजपा सरकार द्वारा सरकारी पैसे एवं मशीनरी का दुरूपयोग किया जा रहा है।
सीएजी की रिपोर्ट के अनुसार कांग्रेस के समय राज्य पर वर्ष 2012-13 में 1,17,809 करोड़ रूपये का कर्ज भार था आज उसके दुगने से भी अधिक कर्ज राज्य की जनता पर डाल दिया गया है। वर्ष 2018-19 के बजट अनुमानों के अनुसार अब राज्य पर कुल कर्जा 3.08 लाख करोड़ रूपये (उदय योजना सहित) हो गया है।
आज गांव गरीब एवं किसान सरकारी उपेक्षा के कारण परेशान और बेबस है। भाजपा सरकार के दौरान राजस्थान में पहली बार उपज के सही मूल्य नहीं मिलने और कर्ज के दबाव के कारण किसान लगातार आत्महत्या के लिये मजबूर हो रहे है। फसल बीमा योजना के नाम से किसानों को लूटा जा रहा है और बीमा कम्पनियों को ही फायदा पहुंचाने का कार्य किया गया है।
यूपीए सरकार द्वारा ग्रामीण, गरीबी उन्मूलन एवं रोजगार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से लागू की गयी ‘नरेगा‘ योजना को चौपट कर दिया। भुगतान जान-बूझकर 6-8 महिन तक नहीं किया गया, जिससे मजदूरों ने काम मांगना बंद कर दिया।
प्रदेश के कई गांव अकाल की चपेट में है, जिस और मुख्यमंत्री का कोई ध्यान नहीं है। वे तो केवल चुनरिया ओढ़ने एवं थोथी घोषणाएं करने में ही आत्ममुग्ध हो रही है। भले ही जनता बिजली, पानी और अकाल की समस्याओं से परेशान हो।
पेयजल समस्या से झूझ रहे प्रदेश की हजारों करोड़ रूपये की योजनाओं को समयबद्धता से पूरा नहीं करने के कारण जनता परेशान हो रही है। इस संबंध में कैग द्वारा भी सरकार की अकर्मण्यता पर सवाल उठाए गये है। भाजपा सरकार ने इंदिरा गांधी नहर, चंबल, माही, नर्मदा आदि स्रोतों पर आधारित 22 हजार करोड़ रूपये की योजनाओं की गति को कमजोर कर दिया है।
कांग्रेस सरकार की प्राथमिकता में जहां रिफायनरी, परवन सिंचाई एवं पेयजल परियोजना, मैमू कोच फैक्ट्री, मैट्रो, डूंगरपुर-बांसवाडा-रतलाम रेल परियोजना, धौलपुर से सरमथुरा नैरोगेज का कन्वर्जन एवं सरमथुरा से गंगापुर तक नई ब्रॉडगेज लाईन, अजमेर-नसीराबाद-सवाईमाधोपुर रेल लाईन जैसी महत्वाकांक्षी विकास परियोजनाऐं रही। वहीं राजे सरकार की प्राथमिकता में खान, पेयजल, परिवहन, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, आर.टी.डी.सी. होटलों को बेचना, शहरों की बेशकीमती जमीनों की खरीद-फरोख्त, स्मार्ट सिटी और आई.टी. हब के नाम से अधिकारियों के साथ मिलकर भ्रष्टाचार को पनपाना एवं भ्रष्टाचारी अधिकारियों को बचाना ही रहा है।
राजे सरकार में कानून के शासन के प्रति आमजन का इकबाल खत्म सा हो गया। दुष्कर्म, डकैती, चोरी, लूट एवं चेन स्नैचिंग की घटनाएं रोजमर्रा होने लगी है। दलितों पर उत्पीड़न की घटनाएं बढ़ी है। इन वर्गो के प्रति अधिक अपराध हो रहे है। प्रतिदिन प्रदेश में दुष्कर्म की 10 घटनाएं और गैंगरेप हो रहे है। प्रदेश में 3-4 साल की बच्चियों के साथ दुष्कर्म होने की घटनाओं से प्रदेश शर्मसार है। चित्तौड़गढ़ में तो नाबालिग बच्ची के साथ हुई दरीदंगी के बाद उसका जीवन बचाने के लिये गर्भाशय (न्जमतने) तक निकालना पड़ा। अब वो जीवनभर मां नहीं बन सकेगी। राजधानी जयपुर में पुलिस की लापरवाही की वजह से आए दिन घटित होने वाली डकैती की घटनाओं से आमजन में असुरक्षा का भाव व्याप्त हो गया है। गोपालपुरा बाईपास स्थित 10बी स्कीम एवं मानसरोवर क्षेत्र में घटित डकैती की घटना एवं डकैतों द्वारा मकान मालकिन की निर्ममता से हत्या कर दी गयी। यदि पुलिस ने तत्परता दिखाई होती तो वारदात रोकी जा सकती थी। इसी तरह पूर्व में वैशाली नगर में पति के सामने पत्नी का दुष्कर्म कर डकैती की घटना हुयी जो सरकार के लिये शर्मनाक है।
प्रदेश में पहली बार राजे सरकार में मॉब लिंचिंग की घटनाएं घटित हो रही है। अलवर में पहले पहलू खान को भीड़ ने मार डाला, और फिर रामगढ़ में रकबर की मौत हुयी। प्रतापगढ़ में जफर हुसैन पर हमला किया गया। राजसंमद में बंजारा लोगों पर हमला किया गया। भीलवाड़ा में ट्रक जला दिया गया और तमिलनाडू सरकार के अधिकारियों पर हमला किया गया। झालावाड़ सिविल सोसाइटी द्वारा आयोजित जवाबदेही यात्रा पर भाजपा विधायक की अगुवाई में सशस्त्र भीड़ द्वारा हमला। अलवर के रकबर की मौत को लेकर गृहमंत्री श्री गुलाब चंद कटारिया ने पहले कहा कि रकबर की मौत पुलिस स्टेशन में हुयी और बाद में कहा कि भीड़ ने उसे मारा। ये स्थिति तो राज्य के गृहमंत्री की है। यदि मुख्यमंत्री शुरू से ही कानून व्यवस्था की स्थिति पर ध्यान देती तो तो घटनायें नहीं होती और उनकी पुनरावृत्ति को भी रोका जा सकता था।
Read more

अयोध्या में बनेगी भगवान राम 108 फुट ऊंची मूर्ती

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यानाथ सरकार अयोध्या में भगवान राम की विशाल मूर्ति लगाने की तैयारी में है। माना जा रहा है कि यह भगवान राम की दुनिया की सबसे बड़ी मूर्ति होगी। इसके लिए प्रदेश सरकार एनजीटी से भी इजाजत लेगी। योगी आदित्यनाथ इस बार दीपावली के एक दिन पहले अयोध्या में होंगे। जहाँ त्रेतायुग की थीम पर दीवाली मनाई जाएगी। योगी आदित्यनाथ भगवान राम की शोभा यात्रा का स्वागत करेंगे। अयोध्या में रामलला के मंदिर का मामला भले ही सुप्रीम कोर्ट में उलझा हो परन्तु विवादित स्थल के पास सरयू के किनारे सीएम योगी भगवान राम की एक विशाल प्रतिमा स्थापित करेंगे। यह मूर्ति 108 फुट लंबी होगी। भगवान राम की यह प्रतिमा योगी सरकार की ‘नव्य अयोध्या’ योजना का एक हिस्सा होगी। दिवाली के मौके पर जिसे भगवान राम के अयोध्या वापसी का दिन माना जाता है, योगी आदित्यनाथ खुद उनके स्वागत के लिए मौजूद होंगे। योजना है कि इस बार अयोध्या को दिवाली में वैसे ही सजाया जाए जैसा कि दिवाली के दिन त्रेतायुग में भगवान राम के लंका पर विजय हासिल करने के बाद सजाई गई थी। भगवान राम की अयोध्या वापसी की थीम पर एक भव्य शोभा यात्रा निकाली जाएगी।
सीएम योगी और उनका मंत्रिमंडल भगवान राम का पूजन वंदन करेगा। राम का राज्यभिषेक भी होगा। इस मौके पर इंडोनेशिया और थाईलैंड के कलाकार अयोध्या के कलाकार राम के अयोध्या वापसी के प्रसंग का सरयू नदी के किनारे मंचन करेंगे। सरयू नदी और आसपास के इलाके की भव्य सजावट की जाएगी। इस दिन शाम को राम की पैड़ी पर एक लाख इकहत्तर हजार दिए जलाए जाएंगे।
योगी ने अयोध्या और राम से जुड़े सभी स्थानों को विकसित करने की योजना बनाई गई है। राम मंदिर कार्यशाला जिन पर नक्काशी का काम लगातार चल रहा है। योगी के सीएम बनने के बाद अब तक अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए 14 ट्रक पत्थर पहुंच चुके हैं। यूपी के प्रमुख सचिव पर्यटन अवनीश अवस्थी ने बताया कि राज्य सरकार की अयोध्या को विश्व पर्यटन मानचित्र पर लाने की योजना है। इसके लिए सरकार में बहुत सारी योजनाएं बनाई हैं। योगी आदित्यनाथ छोटी दिवाली के दिन अयोध्या में खुद उन सभी योजनाओं की घोषणा करेंगे। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अयोध्या में सरयू तट पर भगवान राम की 108 फुट ऊंची प्रतिमा स्थापित कराएगी। इस प्रतिमा की स्थापना का काम एनजीटी की अनुमति मिलने के बाद प्राम्भ होगा। प्रमुख सचिव पर्यटन अवनीश अवस्थी ने कल राज्यपाल राम नाईक से मुलाकात कर एक प्रजेंटेशन जानकारी दी। पर्यटन विभाग की योजना ‘नव्य अयोध्या’ का प्रस्तुतिकरण दिया। 18 अक्टूबर को अयोध्या में छोटी दीपावली पर भव्य दीपोत्सव की रूपरेखा के साथ ही शहर के संपूर्ण विकास की योजनाओं का भी मसौदा रखा गया। इस योजना के मुताबिक, अयोध्या को पर्यटन मानचित्र पर लाने के लिए रामकथा गैलरी बनाई जाएगी। सरयू तट का विकास करने के साथ ‘रानी हो’ के स्मारक के सौंदर्यीकरण किया जायेगा। इसके साथ ही गुप्तार घाट (प्रभु राम का जल समाधि स्थल) का भी विशेष सुधार होगा। यहां के ही दिगम्बर अखाड़ा परिसर में बहुउद्देश्यीय प्रेक्षागृह का निर्माण किया जायेगा। राम की पैड़ी, पर्यटकों के ठहरने के स्थल जैसे कार्य भी इस योजना का हिस्सा है।
योगी सरकार ने 18 अक्टूबर को छोटी दीपावली पर अयोध्या में भव्य दीपोत्सव की तैयारियां शुरू कर दी हैं। राम के राज्याभिषेक के साथ ही योगी सरकार वहां योजनाओं की घोषणा भी करेगी। प्रमुख सचिव पर्यटन अवनीश अवस्थी के मुताबिक, 18 अक्टूबर को रामकी पैड़ी पर 1,71,000 दीप जलाए जाएंगे।
इस दीपोत्सव कार्यक्रम में राज्यपाल, मुख्यमंत्री, पर्यटन मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा, केंद्रीय पर्यटन राज्यमंत्री एल्फांस कंननथान, केंद्रीय संस्कृति राज्यमंत्री महेश शर्मा सहित स्थानीय सांसद, विधायक शामिल रहेंगे।

Read more

राजस्थान में एक और विकल्प ‘आम नागरिक युवा पार्टी’

जयपुर। राजस्थान में नई पार्टी आम नागरिक युवा पार्टी का आगाज हुआ। पार्टी आगामी विधानसभा चुनावों में राजस्थान की सभी 200 विधानसभा सीट पर अपने प्रतिनिधि मैदान में उतारेगी । राजधानी जयपुर के पिंकसिटी प्रेस क्लब मे सैंकड़ो की संख्या में लोगों ने पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। आम नागरिक युवा पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैदर अली ने बताया कि पार्टी किसानों के हितों में काम करेगी। भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ी जाएगी। सम्पूर्ण राज्य में शराबबंदी के लिए कदम उठाये जायेंगे जिससे युवा सही मायने में राष्ट्र निर्माण करने में अपनी भागीदारी निभा सकें। लोगों ने बहुत सी पार्टियों को अपना मत दिया मगर बदले में जनता अपने को ठगा सा ही महसूस करती है। आम नागरिक युवा पार्टी ज्यादातर युवाओं के नेतृत्व और वरिष्ठ अनुभवी लोगो का एक सामंजस्य होगा जिससे राजस्थान की जनता को एक नया विकल्प मिलेगा।
बहरहाल राजस्थान में इससे पहले स्वराज पार्टी,नेशनल पीपुल्स फ्रंट भी दस्तक दे चुकी हैं। (लीलाधर कुमावत)

Read more