एससी/एसटी एक्ट के खिलाफ सवर्णो का भारत बंद

अनुसूचित जाति एवं जनजाति अत्याचार अधिनियम (एससी/एक्ट कानून) को लेकर लाए गए अध्यादेश के खिलाफ कथित तौर पर सवर्ण समुदाय तरफ से बुलाए गए भारत बंद का देशभर में व्यापक असर देखने को मिल रहा है।मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश और बिहार समेत कई राज्यों में लोग इसके खिलाफ सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

बिहार में कई जगहों पर बाजार बंद नजर आ रहा है और भारत बंद का आह्वान कर रहे लोग जगह-जगह प्रदर्शन कर रहे हैं। तो वहीं दूसरी तरफ के मुंगेर और दरभंगा में ट्रेनों को रोक दिया गया है। जबकि, उत्तर प्रदेश के वाराणसी में लोग सड़कों पर उतर कर इसका विरोध कर रहे हैं।

Read more

रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त

श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाए जाने पर्व रक्षाबंधन के मौके पर बहनें अपने भाइयों को अमृत मुहूर्त में राखी बांधें तो ज्यादा उपयुक्त होगा। शक्ति ज्योतिष केंद्र के पंडित शक्तिधर त्रिपाठी के अनुसार अमृत मुहूर्त के समय राखी बांधना बहुत ही शुभ माना जाता है। प्रयास करें कि इसी समय अपने भाई को राखी बांधें।
रक्षाबंधन रविवार 26 अगस्त को है। इस दिन पूर्णिमा तिथि का मान सूर्योदय से लेकर शाम 04:20 बजे तक रहेगा। इस समय पूर्णिमा के दिन करने वाले सभी शुभ कार्य किए जाएंगे। ब्राह्मणों का खास पर्व श्रावणी भी इसी दिन मनाया जाएगा। श्रावण पूर्णिमा को चातुर्मास के सबसे शुभ दिन के रूप में माना गया है। इसमें किए हुए शुभ कार्यों का कई गुना फल प्राप्त होता है।
राखी बांधने का सबसे शुभ मुहूर्त
पंडित शक्तिधर त्रिपाठी के अनुसार रविवार को सुबह 7:43 बजे से 9:18 बजे तक चर
सुबह 9:18 बजे से लेकर 10:53 बजे तक लाभ
सुबह 10:53 बजे से लेकर 12:28 बजे तक अमृत मुहूर्त का समय रहेगा।
इसके बाद दोपहर 2:03 बजे से लेकर 3:38 बजे तक शुभ,
शाम 6:48 बजे से लेकर 8:13 बजे तक शुभ, रात 8:13 बजे से लेकर 9:38 बजे तक अमृत
रात 9:38 बजे से लेकर 11:03 बजे तक चर मुहूर्त रहेगा। उन्हों ने बताया कि इन मुहूर्तों में राखी बांधी जा सकती है।
संकटी श्री गणेश चतुर्थी/बहुला बुधवार को रक्षा बंधन के बाद बहनें भाई के समस्त संकट हरण के लिए श्री गणेश व्रत रखती हैं। जिसको पूर्वी उत्तर प्रदेश में ज्यादा मान्यता दी जाती है। यह पर्व इस वर्ष बुधवार 29 अगस्त को है। इसी दिन पुत्रवती महिलाएं अपने पुत्र की आयु वृद्धि की कामना से गणेश चतुर्थी का व्रत रखती हैं। शक्ति ज्योतिष केंद्र के पंडित शक्तिधर त्रिपाठी के अनुसार रात के 08:17 बजे चन्द्रोदय होने पर ‘ओम् सोम सोमाय नमः’ मंत्र से चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद व्रत पूरा करेंगी।

Read more