सरकारों को चाहिए की समाजसेवी संस्थाओं पर ध्यान दें- अल्का चौधरी

मानव सेवा में समर्पित विभिन्न समाज सेवी संस्थाओं का काम है की वो शोषित और पीड़ितों की बाहैसियत मदद दें और उनके दुखों में उनके साथी बनें। पूरे भारतवर्ष में इस तरह की स्वयंसेवी और समाजसेवी संस्थाओं की गिनती हज़ारों में हैं जो अलग अलग क्षेत्रों में अपनी तरह के कार्यों में रत हैं,और भारत के विकास में बाधा बन रही अनेकों समस्याओं का हल ढूंढ कर गरीबों और पीड़ितों की सहायता कर रही हैं। ऐसी ही बहोत सी संस्थाओं में एक नाम है जैन सोशियल ग्रुप।
जैन सोशियल ग्रुप की भारतवर्ष में अनेकों शाखाएं हैं जोकि समाज के अलग अलग वर्गो के उत्थान के लिए काम कर रही हैं। जैन सोशियल ग्रुप में महिलाओं के लिए भी एक मेकेनिज़्म का निर्माण किया गया है जिसका नाम ‘संगिनी सेन्ट्रल’ है और महिलाओं के लिए काम कर रही हैं।

वर्तमान में संगिनी सेन्ट्रल फोरम की अध्यक्षा अल्का चौधरी ने बताया की हमारी संस्था सिर्फ एक संस्था नहीं है ये पीड़ित दलित शोषित महिलाओं के लिए एक संबल है। चूंकि समाज में समान स्तर पर महिलाओं की मौजूदगी नहीं है और पूरे समाज में महिलाओं के लिए बराबरी का स्थान बनाने में सरकार और अनेकों महिला विकास संगठन इस काम में अपनी अपनी भूमिका निभा रहे हैं। लेकिन कई बार संस्था को भी अपनी जिम्मेदारियां निभाने में अनेक चुनौतिओं का सामना करना पड़ता है सरकार से अनुरोध है की जो संस्थाए सरकारी पंजीकरण से वंचित उनके लिए भी सरकार अपने नियम थोड़े लचीले करे और सहायता दे।

संगिनी सेन्ट्रल के संपर्क में आने वाली महिलाओं के लिए संस्था पूरे मन से अपनी जिम्मेदारी निभाती आरही है अपने सामर्थ्य के अनुसार समस्या ग्रस्त या आर्थिक तौर पर कमज़ोर महिलाओं को उनके स्वाभिमान के साथ जीने में सहायता करती हैं।

संस्था द्वारा समय समय पर पात्र महिलाओं को सिलाई मशीन, राशन,रोजगार के कोर्स उपलब्ध करवाए जाते हैं। संगिनी से संपर्क करने के लिए जैन सोशियल ग्रुप की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाएं।

Read more

सर्वे: मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ भाजपा आगे, राजस्थान में कांग्रेस को बढ़त

सर्वे में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में भाजपा आगे, राजस्थान में कांग्रेस को बढ़त

बड़े राज्य मध्यप्रदेश छत्तीसगढ़ और राजस्थान के वाशिंदे अगले कुछ दिनों में नई सरकार का चुनाव करेंगे। एबीपी न्यूज के सीएसडीएस के सर्वे के अनुसार मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में भाजपा की सरकार फिर आ सकती है, परन्तु राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बनने का आसार है। इन चुनावों का प्रभाव निश्चित ही अगले लोकसभा चुनाव पर भी पड़ेगा। और नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी की लोकप्रियता का भी पता चलेगा।

मध्य प्रदेश : पहली पसंद शिवराज सिंह
मध्य प्रदेश में विधानसभा की कुल 230 सीटों पर 28 नवंबर को मतदान होगा और परिणाम 11 दिसंबर को आएंगे। सर्वे के अनुसार मध्य प्रदेश में भाजपा बहुमत का आंकड़ा छू सकती है। मुख्यमंत्री के रूप में शिवराज सिंह चौहान नंबर वन पर बरकरार हैं। 37 प्रतिशत जनता शिवराज को और 24 प्रतिशत जनता ज्योतिरादित्य सिंधिया को मुख्यमंत्री के रूप में अपनी पसंद बता रहे हैं। मात्र 10 प्रतिशत ने कमलनाथ को अपनी पसंद बताया।

छत्तीसगढ़ : रमन सिंह में आगे
सर्वे के अनुसार अजीत जोगी का गठबंधन कांग्रेस के लिए बड़ी मुसीबत साबित हो सकती है। उन्हें 15 फीसदी वोट मिल सकते हैं। इस वजह से भाजपा फिर बहुमत का आंकड़ा पार कर सकती है। अजीत जोगी के गठबंधन को 4 सीटें मिल सकती हैं। मुख्यमंत्री रमन सिंह 40 प्रतिशत लोगों की पहली पसंद बने हुए हैं। 20 प्रतिशत लोगों ने अजीत जोगी अपनी पसंद बताया। 14 प्रतिशत लोगों ने भूपेश बघेल को मुख्यमंत्री के रूप में अपनी पसंद बताया।

राजस्थान : कांग्रेस बहुमत के नज़दीक
सर्वे के अनुसार कांग्रेस के लिए राजस्थान से खुशखबरी है। सीटों के लिहाज से कांग्रेस बहुमत का आंकड़ा पार कर सकती है। वोट प्रतिशत में भाजपा और कांग्रेस के बीच 4 फीसदी का अंतर है। लोकप्रियता की कसौटी पर मुख्यमंत्री के रूप में वसुंधरा राजे अब भी 32 प्रतिशत के साथ नंबर वन बनी हुई हैं। अशोक गहलोत 26 प्रतिशत, सचिन पायलट 14 प्रतिशत लोगों की पसंद हैं।

तीनों राज्यों का इंफो मैटर

मध्य प्रदेश
किसे कितने प्रतिशत वोट?
कुल- 230 सीट
भाजपा- 41%
कांग्रेस- 40%
अन्य- 19%

कितनी औसत सीटें?
कुल- 230 सीट
भाजपा- 116 सीट
कांग्रेस- 105 सीट
अन्य- 9 सीट

मौजूदा सीटें
भाजपा – 166 (1 अन्य) सत्तापक्ष
कांग्रेस – 57 (6 अन्य) विपक्ष

छत्तीसगढ़
किसे कितने वोट ?
कुल- 90 सीटें
भाजपा- 43%
कांग्रेस- 36%
जोगी गठबंधन – 15%

कितनी औसत सीट
कुल- 90 सीट
भाजपा- 56 सीट
कांग्रेस- 25 सीट
जोगी गठबंधन – 4 सीट

मौजूदा सीटें
भाजपा – 49 सत्तापक्ष
कांग्रेस – 39 (2 अन्य) विपक्ष

राजस्थान
कुल- 200 सीटें
भाजपा- 41%
कांग्रेस- 45%
अन्य – 14%

किसे कितनी औसत सीट
भाजपा- 84 सीटें
कांग्रेस- 110 सीटें
अन्य – 6 सीटें

मौजूदा सीटें
भाजपा – 160 (1 अन्य) सत्तापक्ष
कांग्रेस – 25 (11 अन्य) विपक्ष

प्रधानमंत्री मोदी का काम कैसा?
बहुत अच्छा मानने वाले
मध्य प्रदेश – 25%
छत्तीसगढ़ – 18%
राजस्थान – 34%

मोदी की लोकप्रियता ?
मध्य प्रदेश – 39%
छत्तीसगढ़ – 48 %
राजस्थान- 52%

राहुल की लोकप्रियता ?
मध्य प्रदेश – 33%
छत्तीसगढ़ – 28 %
राजस्थान – 18%

इंडिया टुडे पीएसई सर्वे
मध्य प्रदेश
42 फीसदी मतदाता मौजूदा भाजपा सरकार के पक्ष में
40 फीसदी ने माना कि सरकार बदलनी चाहिए

राजस्थान
43 फीसदी मतदाताओं ने कहा कि सरकार बदलनी चाहिए
39 फीसदी ने वसुंधरा की भाजपा सरकार पर भरोसा जताया

छत्तीसगढ़
43 फीसदी मतदाता रमन सिंह के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार चाहते हैं
41 फीसदी ने कहा कि सरकार बदली जानी चाहिए

तेलंगाना
43 फीसदी मतदाताओं ने के. चंद्रशेखर राव को पुनः मुख्यमंत्री चुनने की बात कही
25 फीसदी ने कांग्रेस के एन. उत्तम रेड्डी को मुख्यमंत्री बनाने की बात कही

Read more

एस.डी.पी.आई. का प्रेसीडेन्ट मीट प्रोग्राम सम्पन्न

भीलवाडा। सोशल डेमाक्रेटिक पार्टी ऑफ इण्डिया (SDPI) राजस्थान की प्रदेश इकाई द्वारा  आयोजित कार्यकम में राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा पदाधिकारियों से सीधे तौर पर संवाद किया गया। मीट द प्रेसीडेन्ट नाम से आयोजित उपरोक्त प्रोग्राम में प्रदेशभर से जिला कमेटियो, विधानसभा, नगर कमेटियों व प्रदेश कार्यकारिणी के पदाधिकारियो ने इस कार्यक्रम में प्रतिनिधि के रूप में भाग लिया।
कार्यक्रम मे मुख्य अतिथि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एम.के. फैजी तथा विशिष्ट अतिथियों में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष आर.पी. पाण्ड््या, राष्ट्रीय महासचिव अब्दुल मजीद, राष्ट्रीय महासचिव मोहम्मद शफी, राष्ट्रीय सचिव सीताराम खोईवाल, राष्ट्रीय सचिव यास्मीन फारूकी, राष्ट्रीय सचिव डॉ तस्लीम रहमानी एवं वीमेन इण्डिया मूवमेन्ट की राष्ट्रीय अध्यक्ष मेहरून्निसा खान ने शिरकत की। कार्यक्रम की अध्यक्षता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद रिजवान खान ने की।
कार्यक्रम में उपस्थित समस्त पदाधिकारियों से संवाद स्थापित करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष ने पार्टी के कार्यकमो एवं नीतियों को निचले स्तर तक पंहुचाने का संदेश दिया तथा आमजन के हितों के लिए संघर्ष करते हुए सभी से तत्पर रहने को कहा । इससे पूर्व कार्यक्रम की शुरूआत करते हुए प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद रिजवान खान ने बताया कि पार्टी ने पूरे प्रदेश में आमजन व किसानो की समस्याओं के निराकरण हेतु निरन्तर संघर्ष करते हुए अपनी निर्णायक भूमिका अदा की है जिससे आगामी चुनाव में भाग लेकर एसडीपीआई अपनी उपस्थिति दर्ज कराऐगी।
राष्ट्रीय उपाध्यक्ष आर.पी. पाण्डया ने देश में कमजोर होते लोकतंत्र पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि वर्तमान केन्द्र की सरकार संविधान की गरिमा को क्षति पंहुचाकर तानाशाही एवं भ्रष्टाचार को बढावा दे रही है जिससे अर्थव्यवस्था को बहुत नुकसान पंहुचा है।
राष्ट्रीय महासचिव अब्दुल मजीद ने कहा कि प्रधानमंत्री एवं उनके मंत्रिमंडल ने पहले तो कॉरपोरेट घरानों को लाभ पंहुचाया फिर उनको देश से बाहर भगाने की साजिश की जिससे की देश की जनता पर महंगाई व करो का भार बढ़ा है।
राष्ट्रीय सचिव यासमीन फारूकी ने अपने संबोधन मे कहा कि देश एवं प्रदेश में महिलाओं पर बलात्कार, हत्याएं तथा अन्य अत्याचार की घटनाएं अभी तक पिछली सरकारो के समय से ज्यादा अब तेजी से बढी है और इन घटनाओ में भाजपा नेताओं एवं समर्थकों की लिप्तता अधिक पाई गई है जिन पर सरकारें अंकुश नहीं लगा सकी।
कार्यक्रम में सभी प्रतिनिधियों एवं राष्ट्रीय नेतृत्व का स्वागत प्रदेश महासचिव अशफाक हुसैन ने किया तथा धन्यवाद भाषण राष्ट्रीय सचिव सीताराम खोईवाल ने किया।
इस अवसर पर आयोजित प्रेस वार्ता में भी राष्ट्रीय अध्यक्ष एम.के. फैजी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष आर.पी. पाण्ड्या, राष्ट्रीय महासचिव अब्दुल मजीद, राष्ट्रीय महासचिव मोहम्मद शफी, राष्ट्रीय सचिव सीताराम खोईवाल ने संबोधित किया।
Read more

मुख्यमंत्री कौन बनेगा ये प्रदेश का मतदाता तय करेगा कोई पार्टी अध्यक्ष नहीं —तिवाड़ी

अजमेर।  भारत वाहिनी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष घनश्याम तिवाड़ी ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा गौरव यात्रा के नाम पर आमजन का पैसा पानी की तरह बहाया जा रहा है। सरकार इस तरह से जानबूझकर आर्थिक अपराध कर रही है। ये ”गौरव यात्रा” नहीं ”कौरव यात्रा” है, राज्य सरकार इस यात्रा के माध्यम से राजस्थानी मान का चीर हरण कर रही है, जिसे जनता कभी माफ नहीं करेगी।  घनश्याम तिवाड़ी ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के वसुंधरा राजे को मुख्यमंत्री उम्मीदवार घोषित किये जाने पर ​कहा कि अमित शाह  ‘प्रदेश का मुख्यमंत्री कौन बनेगा’ ये तो राजस्थान की 7 करोड़ जनता तय करेगी।  देश में तानाशाही शासन नहीं है लोकतांत्रिक शासन चल रहा है और लोकतंत्र में किसी पार्टी का अध्यक्ष नहीं प्रदेश का मतदाता तय करता है कि किसे सीएम बनाना है और किसे हटाना है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश की एक एक दीवार पर स्पष्ट लिखा है कि विधानसभा चुनाव 2018 में भाजपा की ऐतिहासिक हार होने वाली है। इस सरकार ने काला कानून, एसआईआर बिल, 13 नंबर के बंगले पर कब्जा करने जैसे काले कारनामों को शह देने से आमजन में असंतोष की लहर पैदा कर दी है। काला कानून जैसा बिल अगर विधानसभा में पास हो जाता तो हम लोग आज अजमेर में बैठकर बात नहीं कर रहे होते। वहीं इस प्रदेश सरकार ने स्थानान्तरण को गृह उद्योग में ही परिवर्तित कर दिया। तिवाड़ी ने कहा कि हमारा राज्य भले ही पीएसी की पीएआई रिपोर्ट में पिछड़ा घोषित किया जा चुका है अगर इस स्थानान्तरण की दर को विकास दर में जोड़ दिया जाए तो राजस्थान की विकास दर भारत की विकास दर से भी ज्यादा हो जायेगी।

ईबीसी आरक्षण के लिये भी ब्राह्मण, राजपूत, वैश्य और अन्य आरक्षण से वंचित समाजों को सरकार से सवाल पूछना चाहिए और इसके लिये आंदोलन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि राजपूत, ब्राह्मण, वैश्य, कायस्थ के साथ ही आरक्षण से वंचित अन्य समाज के बच्चों के साथ वर्तमान सरकार ने धोखा किया है।  हम पिछले 14 साल से लगातार वंचित वर्ग के आरक्षण की लड़ाई लड़ रहे हैं, जिसे यह सरकार स्वीकृति के बावजूद दबाकर बैठी है।

उन्होंने बताया कि मैंने जोधपुर और जयपुर में भी प्रेस वार्ता कर सिंधिया परिवार के ​द्वारा राजस्थान के साथ किये गये अन्यायों का खुलासा किया था कि वायसराय लार्ड कैनिंग ने कहा था कि यदि भारत में ग्वालियर रियासत के सिंधिया वंश ने हमारी मदद की न की होती तो हम भारत में दो दिन भी नहीं टिक पाते।

तिवाड़ी मंगलवार को अजमेर के दौरे पर थे, जहां उनका  मालाओं और ढोल नगाड़ों से स्वागत हुआ। वे भारत वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार अजमेर आए।  तिवाड़ी का घूघरा घाटी पर मालाओं के साथ स्वागत किया गया, जहां से वे कार्यकर्ताओं के साथ वाहन रैली के रूप में इंडोर स्टेडियम, पटेल मैदान पहुंचे। इंडोर स्टेडियम में कार्यकर्ताओं ने  तिवाड़ी को 150 किलो की पुष्प माला पहनाकर भव्य स्वागत किया। रैली के दौरान ही सेशन कोर्ट के अधिवक्ताओं ने माला पहनाकर ,  स्टेशन के पास मुस्लिम समाज ने तिवाड़ी का सत्कार किया।  इस दौरान भारत वाहिनी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अशोक यादव, प्रदेश कोषाध्यक्ष मुरारी शर्मा, सुदामा शर्मा, कैलाश चंद शर्मा, प्रकाश मुद्गल, कुणाल धवन, कपिल व्यास समेत सैकडों कार्यकर्ता मौजूद थे।

Read more

रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त

श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाए जाने पर्व रक्षाबंधन के मौके पर बहनें अपने भाइयों को अमृत मुहूर्त में राखी बांधें तो ज्यादा उपयुक्त होगा। शक्ति ज्योतिष केंद्र के पंडित शक्तिधर त्रिपाठी के अनुसार अमृत मुहूर्त के समय राखी बांधना बहुत ही शुभ माना जाता है। प्रयास करें कि इसी समय अपने भाई को राखी बांधें।
रक्षाबंधन रविवार 26 अगस्त को है। इस दिन पूर्णिमा तिथि का मान सूर्योदय से लेकर शाम 04:20 बजे तक रहेगा। इस समय पूर्णिमा के दिन करने वाले सभी शुभ कार्य किए जाएंगे। ब्राह्मणों का खास पर्व श्रावणी भी इसी दिन मनाया जाएगा। श्रावण पूर्णिमा को चातुर्मास के सबसे शुभ दिन के रूप में माना गया है। इसमें किए हुए शुभ कार्यों का कई गुना फल प्राप्त होता है।
राखी बांधने का सबसे शुभ मुहूर्त
पंडित शक्तिधर त्रिपाठी के अनुसार रविवार को सुबह 7:43 बजे से 9:18 बजे तक चर
सुबह 9:18 बजे से लेकर 10:53 बजे तक लाभ
सुबह 10:53 बजे से लेकर 12:28 बजे तक अमृत मुहूर्त का समय रहेगा।
इसके बाद दोपहर 2:03 बजे से लेकर 3:38 बजे तक शुभ,
शाम 6:48 बजे से लेकर 8:13 बजे तक शुभ, रात 8:13 बजे से लेकर 9:38 बजे तक अमृत
रात 9:38 बजे से लेकर 11:03 बजे तक चर मुहूर्त रहेगा। उन्हों ने बताया कि इन मुहूर्तों में राखी बांधी जा सकती है।
संकटी श्री गणेश चतुर्थी/बहुला बुधवार को रक्षा बंधन के बाद बहनें भाई के समस्त संकट हरण के लिए श्री गणेश व्रत रखती हैं। जिसको पूर्वी उत्तर प्रदेश में ज्यादा मान्यता दी जाती है। यह पर्व इस वर्ष बुधवार 29 अगस्त को है। इसी दिन पुत्रवती महिलाएं अपने पुत्र की आयु वृद्धि की कामना से गणेश चतुर्थी का व्रत रखती हैं। शक्ति ज्योतिष केंद्र के पंडित शक्तिधर त्रिपाठी के अनुसार रात के 08:17 बजे चन्द्रोदय होने पर ‘ओम् सोम सोमाय नमः’ मंत्र से चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद व्रत पूरा करेंगी।

Read more

झूठे दुष्कर्म मामले में फंसाने की धमकी देकर करती थी ब्लेकमेल, पुलिस ने दबोचा

राजस्थान पुलिस ने रेप का आरोप लगाकर ब्लैकमेल करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया। दो महिलाओं सहित चार लोगों को दिल्ली से
गिरफ्तार किया है।
पुलिस उपायुक्त साउथ विकास पाठक ने बताया कि अशोक नगर थाना इलाके में घरेलू हेल्पर के रूप में काम करने वाली एक महिला ने आठ अगस्त को शौर्य नाम के युवक पर दुष्कर्म कर गर्भवती बनाने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया था।

इसके बाद महिला की एक रिश्तेदार के पति सौरभदास ने आरोपी शौर्य के पिता वीरेन कटारिया से राजीनामा कराने के लिये दबाव बनाया और राजीनामे के लिए 50 लाख रूपये की मांग की। सौरभदास दिल्ली के खानपुर इलाके में प्लेसमेंट सर्विस का ऑफिस चलाता है।

पुलिस के अनुसार सौरभदास ने कई तरीके से डरा धमका कर वीरेन कटारिया से लगातार राजीनामा के लिये पैसे की मांगे। वीरेन कटारिया ने ब्लैकमेलिंग का मामला दर्ज कराकर विगत 21 अगस्त को राजीनामे के लिये सौरभदास से 22 लाख रूपये में सौदा तय किया। इसके तहत तीन लाख रूपये 22 अगस्त को दिल्ली में अपोलो अस्पताल के आसपास लेना तथा बाकी 19 लाख रूपये आरोप लगाने वाली महिला द्वारा आरोपी के पक्ष में बयान देने के बाद देना तय हुआ।
पाठक ने बताया कि स्पेशल टीम ने दिल्ली पुलिस के सहयोग से अपोलो अस्पताल परिसर में यह राशि लेते हुए सौरभदास, जगदेव बेहुरिया (46), उसकी पत्नी लक्ष्मी उर्फ आशा (42) और फरीदाबाद निवासी विमलादेवी (50) को गिरफ्तार कर लिया। सौरभदास तथा विमला देवी कई सालों से घरेलू सहायिका अरेंज कराते थे और दिल्ली में एक स्वयंसेवी संस्थान भी चलाते है। आरोपियों से पूछताछ जारी है।

Read more